Tuesday, March 29, 2011

बस चंद करोडों सालों में.... (भावानुवाद - ५)

काही करोड वर्षे आणि सरून जाता
ज्वाला विझून जाई सूर्यातली पहाता

ओकेल राख तेव्हा तो सूर्य अंतराळी
ना चंद्र मावळे तो, पृथ्वीस कोण त्राता?

तो थंड कोळसा जो, तैशीच होय पृथ्वी
अंधूकशा प्रकाशी फिरणे हताश आता

ऐश्या अगम्य वेळी त्या खास दोन ओळी
छोट्या चिठोर पानी, सूर्याकडेच जाता -

ज्वाला पुन्हा उठावी, सूर्यास पेटवावी
ऐसा पुन्हा मिळावा सृष्टीस तोच दाता

"ती पार कोळश्याला हीरा करून गेली"
मी खुद्द धन्य झालो", बोलेल तो विधाता..!!

-
मूळ कविता: "बस चंद करोडों सालों में...."
कवी: गुलजार
भावानुवाद: ....रसप....
२९ मार्च २०११



मूळ कविता:

बस चंद करोडों सालों में
सूरज कि आग बुझेगी जब
और राख उडेगी सूरज से
जब कोई चाँद न डूबेगा
और कोई ज़मीं न उभरेगी
तब ठंडा बुझा इक कोयला सा टुकड़ा यह जमीं का
घूमेगा भटका भटका
मद्धम खाकीस्तरी रोशनी में

मैं सोचता हूँ उस वक़्त अगर
कागज़ पे लिखी इक नज़्म कहीं उडते उडते सूरज में गिरे
तो सूरज फिर से जलने लगे!!

- गुलजार

No comments:

Post a comment

Please do write your name.
आपलं नाव नक्की लिहा!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...