Monday, May 23, 2011

अम्बुधि लहरों के शोर में.... - भावानुवाद

"मराठी कविता समुहा"च्या "कविता एक अनुवाद अनेक" ह्या उपक्रमासाठी केलेला भावानुवाद -

खवळला सागर तरीही पाहिला मी शांत तो
लाल आकाशास आणिक सागराला रंगतो
खग विहरती मुक्तछंदी गूज त्यांना सांगतो
आपल्या घरट्याकडेही तोच त्यांना धाडतो

दिवस गेला दगदगीचा, सांजवा खोळंबला
दूर क्षितिजाला रवी मी अस्त जातां पाहिला
मी किनारी, ओलडोळी दृश्य हे न्याहाळले
अन् हताशा कळवळूनी मी मनाशी चिंतले -

नववधू डोळ्यांत जेव्हा आसवांना माळते
स्वच्छ आभाळात जेव्हा ऊनही रेंगाळते
सांज जेव्हा दाटल्या काळोखडोही झोपते
सांग तेव्हा दु:खही मनमोहिनी ना वाटते?

मी अजूनी गुंतलो आहेच ह्या कोड्यामधे
गुरफटूनी राहिलो, पण उकल होते ही कुठे..?


-
मूळ कविता - अम्बुधि लहरों के शोर में....
कवी - दीपक कुमार
भावानुवाद - ....रसप....
२३ मे २०११



मूळ कविता:

अम्बुधि लहरों के शोर में
असीम शान्ति की अनुभूति लिए,
अपनी लालिमा के ज़ोर से
अम्बर के साथ – लाल सागर को किए,
विहगों के होड़ को
घर लौट जाने का संदेसा दिए,
दिनभर की भाग दौड़ को
संध्या में थक जाने के लिए
दूर क्षितिज के मोड़ पे
सूरज को डूब जाते देखा!

तब, तट पे बैठे
इस दृश्य को देखते
नम आँखें लिए
बाजुओं को आजानुओं से टेकते
इस व्याकुल मन में
एक विचार आया!
किंतु उस उलझन का,
परामर्श आज भी नही पाया!
की जब विदाई में एक दुल्हन रोती है,
जब बिन बरखा-दिन में धुप खोती है,
जब शाम अंधेरे में सोती है,
तब, क्या उदासी खुबसूरत नही होती है?


- दीपक कुमार

No comments:

Post a comment

Please do write your name.
आपलं नाव नक्की लिहा!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...